अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों को गांव से बहिष्कृत

प्रतापगढ़ जिले के बोरी गांव में अनुसूचित जाति वर्ग की दमामी (ढोली) समाज के परिवारों को गांव के दबंग पंच पटेलो ने मन्दिर प्रवेश से रोका और गांव के लोगो व् सार्वजनिक बिना मजदूरी से ढोल बजाने के लिए मजबूर किया,यही नहीं परिवारों के सहमत नहीं होने पर उनका गांव के किराना दुकानों से राशन,दूध व अन्य मजदूरी,व् गांव के किसी भी व्यक्ति के सहायता करने पर सार्वजनिक जुर्माना लगाने का पंच पटेलो ने पूरे गांव के समक्ष मंदिर में बैठक कर लिखित में फरमान जारी किया और इन परिवारों को गांव से बहिष्कृत कर दिया है।आज़ादी के 70 सालों बाद भी देश के देहातो व् गाँवो में आज भी अनुसूचित जातियों,जनजातियो के साथ अमानवीय व्यवहार होता है जो क्या इंगित करता है,सोचना पड़ेगा,समाज को बाबा साहब भीमराव अंबेडकर जी संविधान में समानता का अधिकार दिया है,आज भी बहुजन समाजो को मंदिरों,सार्वजानिक स्थलों में प्रवेश नहीं मिलना जातीय भेदभाव,देश को वर्ग संघर्ष की और धकेल रहा है जो चिंतन का विषय है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *